Saturday, June 6, 2020

Dhyan,Meditation kaise kare in hindi | मेडिटेशन कैसे करें

Meditation kaise kare?

नमस्कार दोस्तों!!
दोस्तों आपने काफी लोगों को यह कहते हुए सुना होगा कि मेडिटेशन या ध्यान करना बहुत ही मुश्किल होता है। कुछ लोग यह भी मानते हैं कि मेडिटेशन या ध्यान करना तो साधु संतों का ही काम होता है। लेकिन ऐसा सोचना बिल्कुल गलत है। हमारी राय में तो मेडिटेशन सभी को करना आवश्यक है। और आज इस पोस्ट में हम आपको यही बताएंगे कि मेडिटेशन कैसे करें या dhyan kaise kare। इस पोस्ट में हम आपको मेडिटेशन शुरू करने के लिए कुछ आसान टिप्स देंगे जिन्हें फॉलो करके आप अपने घर पर ही मेडिटेशन करना शुरू कर सकते है।
Meditation kaise kare या मेडिटेशन करने का तरीका जानने से पहले आइए पहले समझते हैं कि आखिर मेडिटेशन होता क्या है?

ये भी पढ़ें : -
Duniya ke saat ajoobe
Yahoo kya hai?

मेडिटेशन क्या है? - Meaning of meditation in hindi


दोस्तों मेडिटेशन या ध्यान को अलग-अलग लोग अलग अलग तरीके से परिभाषित करते हैं। लेकिन अगर बिल्कुल सरल शब्दों में समझा जाए तो यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें हम अपने मन में चल रही विचारों की उथल-पुथल को विराम देते हैं। दोस्तों विचारों को रोक पाना बेहद मुश्किल है लेकिन अगर आप धीरे-धीरे ध्यान का अभ्यास निरंतर करेंगे तो यह आपको आसान लगने लगेगा। अगर दूसरे शब्दों में समझें तो ध्यान एक सहज नींद है जिसमें हम जागरूक रहते हुए विश्राम करते है। आइए अब जानते हैं कि मेडिटेशन करना जरूरी क्यों है?

मेडिटेशन क्यों करना चाहिए?

इस बदलते समय में हमारी जीवनशैली भी काफी बदल चुकी है। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में बहुत कम ही ऐसे पल होते हैं जब हम जीवन में शांति का अनुभव करते हैं। हर समय हमारा मन अलग-अलग विचारों में उलझा रहता है। इसी उथल पुथल की वजह से ना तो हम खुश रह पाते हैं और ना ही हम अपना काम सही तरीके से कर पाते हैं। जरूरत से ज्यादा सोचना भी एक बीमारी ही होती है दोस्तों। और अब तो वैज्ञानिकों ने भी यह साबित कर दिया है कि मानसिक अशांति के कारण भी शरीर में बीमारियां पैदा हो सकती है।
इन सभी से बचने के लिए मेडिटेशन या ध्यान करना एक बेहद ही अच्छा उपाय है। इससे हमारे उलझे हुए विचार सुलझ जाते हैं और हम तनावमुक्त जीवन का अनुभव कर पाते हैं। नियमित रूप से मेडिटेशन करने पर हमारे मन में सकारात्मक बदलाव आते हैं और हम जिंदगी को सकारात्मक रूप से जीने लगते हैं। आइए अब जानते हैं कि आखिर मेडिटेशन किया कैसे जाता है।

मेडिटेशन कैसे करें? - How to do meditation in hindi

शुरुआत में ध्यान करना थोड़ा कठिन होता है क्योंकि हम अपने विचारों को नहीं रोक पाते हैं। ना चाहते हुए भी हम ध्यान करते वक्त विचारों में खो जाते हैं। जिसकी वजह से हमारा ध्यान का अनुभव गहरा नहीं हो पाता है और हमें इसके लाभ नहीं मिलते हैं। अपने ध्यान के अनुभव को और गहरा बनाने के लिए नीचे दी गई टिप्स को फॉलो करें। यह टिप्स बेहद आसान है और इनको अपनाकर आप ध्यान की गहराई को अनुभव करेंगे। आइए अब जानते हैं ध्यान करने से पहले किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

मेडिटेशन शुरू करने के 7 आसान उपाय


1. उपयुक्त स्थान चुनें
यह बहुत ही आवश्यक है कि आप ध्यान करने का स्थान ऐसा चुने जहां पर बहुत कम हलचल होती हो जहां ज्यादा शोर ना होता हो। अगर आप घर पर ध्यान कर रहे हैं तो अपने घर के ऐसे स्थान को चुनें कहा ज्यादा चहल-पहल ना होती हो और वह स्थान हवादार एवं स्वच्छ हो। इस बात का भी ध्यान रखें कि आप जब भी मेडिटेशन करें तो हमेशा एक ही स्थान पर करें।
2. सही समय चुनें
सूर्योदय एवं सूर्यास्त का समय ध्यान करने के लिए आदर्श समय माना जाता हैं। लेकिन आप अपनी सुविधा के हिसाब से दिन के किसी भी समय ध्यान कर सकते हैं। इस बात का भी ध्यान रखें कि आप रोजाना एक ही समय पर ध्यान करें। एक ही समय पर ध्यान करने से आपको ध्यान की गहन अनुभूति होती है और आप जल्दी से ही ध्यान की अवस्था में पहुंच जाते हैं।
3. वॉर्म अप से शुरू करें
ध्यान करने के लिए बैठने से पहले आप थोड़ी देर वार्म अप जरूर करें ताकि आपके शरीर में रक्त परिसंचरण अच्छा हो जाए। वार्म अप करने से शरीर में हल्कापन महसूस होता है एवं शरीर की जकड़न एवं बेचैनी दूर हो जाती है।
4. आराम से बैठे
अक्सर सुनने में आता है कि हमें ध्यान करने के लिए पद्मासन में ही बैठना जरूरी है। तो ऐसा नहीं है दोस्तों ध्यान करने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप आराम पूर्वक बैठे। आप आसन बिछाकर आराम से आलती पालती मारकर बैठे और अपनी कमर सीधी रखें।
5. लंबी गहरी सांस लें
ध्यान करने से पहले कुछ देर लंबी गहरी सांस लेने से नाड़ी शोधन हो जाता है जिससे कि हमारा मन शांत अवस्था में आ जाता है एवं सांस की लय भी स्थिर होने लगती है।
6. चेहरे पर मुस्कान बनाए रखें
ध्यान करते समय चेहरे पर एक सरल सौम्य मुस्कान रखने से आप आराम एवं तनाव मुक्त अनुभव करते हैं जिससे कि आपका ध्यान का अनुभव और गहरा हो जाता है।
7. आंखों को धीरे धीरे खोलें
जब आप ध्यान करने के बाद आंखें खोलते हैं तो आप आंखों को धीरे-धीरे बड़ी ही सौम्यता से खोलें। आंखें खोलने से पहले अपने आसपास के वातावरण के प्रति सजग हो जाए।
अगर आप अपने जीवन में शांति और उत्साह को महसूस करना चाहते हैं तो आपको ध्यान करना अवश्य शुरू कर देना चाहिए। शुरुआत में आप 10 से 15 मिनट ध्यान करें इसके बाद ध्यान की अवधि बढ़ाकर आप इसे 30 से 40 मिनट तक भी कर सकते हैं। ध्यान करने से आप अधिक प्रसन्न, तनाव मुक्त और शांत अनुभव करेंगे। लेकिन गलत तरीके से किया गया ध्यान आपको नुकसान भी पहुंचा सकता है।आइए अब जानते है कि ध्यान करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

मेडिटेशन करते समय इन बातों का रखें ध्यान

Dhyaan in hindi मेडिटेशन तो काफी लोग करते है लेकिन कुछ ही लोग गहन ध्यान की अवस्था में पहुंच पाते है और उनको ही ध्यान का लाभ भी मिलता है। ऐसे में कुछ बातों का ध्यान रखकर आप भी ध्यान की गहराई में बहुत सकते हैं और शांति का अनुभव कर सकते हैं। ध्यान करते समय इन बातों का खास ख्याल रखे:--

  1. हमेशा खाली पेट ही ध्यान करें। अगर आप खाना खाने के तुरंत बाद ध्यान करते हैं तो ध्यान की अवस्था में पहुंच पाना बेहद मुश्किल होता है। इसलिए हल्का सुपाच्य भोजन करें एवं उसके 2 घंटे बाद ही ध्यान करें। ज्यादा गरिष्ठ भोजन करने के बाद आप ध्यान नहीं कर पाते हैं और आपको ध्यान करते वक्त नींद सी आने लगती है।
  2. हमेशा अलग-अलग जगहों पर ध्यान करने से बचना चाहिए। अपने घर में ध्यान करने के लिए एक उपयुक्त जगह निर्धारित कर लीजिए जो कि स्वच्छ हवादार और शांत हो और जब भी आप ध्यान करें उसी जगह पर करें ताकि ध्यान की अवस्था में जल्दी से पहुंच पाए।
  3. जितना हो सके आप दिन के अलग-अलग समय में ध्यान ना करें। ध्यान करने के लिए दिन में एक निश्चित समय निर्धारित कर लीजिए और हमेशा उसी समय पर ध्यान कीजिए।
  4. जब आप बहुत ज्यादा चिंताग्रस्त एवम् उदास, परेशान हो तब भी ध्यान ना करें। ऐसा करने से आप अपने विचारों में खो जाएंगे और ध्यान नहीं लगेगा।
  5. ध्यान करते हुए अपनी आंखों को बिल्कुल आराम से बंद करके रखें। ज्यादा अनावश्यक दबाव आंखों पर न डालें।
  6. ध्यान करते वक्त जब भी कोई विचार आए तो उसमें खो जाने के बजाय आप हर बार अपनी सांसो पर ध्यान लगाइए। केवल अंदर बाहर जाती स्वास को महसूस करें।

मेडिटेशन करने के benefits


दोस्तों मेडिटेशन करने से केवल मानसिक ही नहीं बल्कि शारीरिक रूप से भी कई फायदे होते हैं। आइए जानते हैं कि नियमित ध्यान करने से हमें क्या-क्या फायदे मिलते हैं।

  1. विपरीत परिस्थितियों में भी मन को शांत बनाए रखने के लिए ध्यान का अभ्यास करना चाहिए।
  2. नियमित ध्यान करने से मन एकाग्र होता है एवं हम किसी भी कार्य को और अच्छी तरीके से कर पाते हैं।
  3. ध्यान करने से बेवजह के तनाव और चिंता से बचते हैं।
  4. नींद ना आने की समस्या को भी नियमित ध्यान करने से दूर किया जा सकता है।
  5. ध्यान करने के बाद हम अधिक प्रसन्न, तनाव मुक्त और शांति का अनुभव करते हैं।
  6. नियमित ध्यान के अभ्यास से हमें जीवन में सकारात्मक बदलाव अनुभव होने लगता है।

निष्कर्ष:--

अगर आप चाहते हैं कि आप अपने हर दिन को एक नई ऊर्जा के साथ शुरू करें तो आज ही ध्यान करना शुरू कीजिए। यह आपको मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रखता है। आज इस पोस्ट में हमने आपको ध्यान करने के कुछ टिप्स दिए। अगर यह टिप्स आपको पसंद आए हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी अवश्य शेयर करें ताकि वे भी अपने जीवन में ध्यान को शुरू करके एक सकारात्मक बदलाव ला सकें। अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो हमें नीचे दिए कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं। मिलते हैं दोस्तों इसी तरह की कुछ और जानकारी लिए हुए हमारी अगली पोस्ट के साथ, धन्यवाद।
Disqus Comments