Thursday, June 4, 2020

Email address kya hota hai | ईमेल एड्रेस क्या होता है

Email address kya hota hai


हेल्लो दोस्तों!!
नमस्कार! स्वागत है आपका हमारी आज की इस पोस्ट में। आप तो जानते ही हैं कि आज टेक्नोलॉजी ने इतनी तरक्की कर ली है कि एक जगह से दूसरी जगह तक पत्र पहुंचाना बहुत ही आसान हो चुका है। और यह संभव हुआ है इंटरनेट के आने के बाद। दोस्तों आपको याद होगा पहले के जमाने में जब किसी को पत्र पहुंचाना होता था तो पहले पत्र लिखकर उस पर टिकट चिपकाकर डाकघर में देकर आना होता था। उसके बाद डाकिया वहां से पत्र लेकर उसे आपके मित्र तक पहुंचाता था। इन सबमें काफी समय लगता था और कभी-कभी पत्र खो जाने का डर भी होता था।
लेकिन अब इंटरनेट के आने के बाद आप अपना मैसेज कुछ ही क्षणों में अपने मित्र तक पहुंचा सकते है। आप पलक झपकते ही दुनिया के किसी भी कोने में बैठे अपने मित्र को पत्र पहुंचा सकते हैं। ईमेल ने जैसे पोस्ट ऑफिस जाने की झंझट ही खत्म कर दी है। दोस्तों आप सोच रहे होंगे कि यह ईमेल क्या होता है? इससे पत्र कैसे भेजते हैं?
तो आज हम इस पोस्ट में आपको ईमेल से जुड़ी हर जानकारी देंगे जैसे कि email kya hai? ईमेल आईडी क्या होती है? email address kya hota hai? इसकी क्या आवश्यकता है? आदि।

ये भी पढ़ें :
Duniya ka sabse amir aadami
Body kaise banaye

E-mail kya hai - ईमेल क्या है?


दोस्तों अगर आप स्मार्टफोन चलाते हैं तो आपने ईमेल के बारे में जरूर सुना होगा या आपसे कभी किसी ने आपका email kya h पूछा होगा। आज हर कोई ईमेल पर अपनी आईडी बनाता है ताकि वह किसी को भी बहुत जल्दी अपना मैसेज पहुंचा सके। इस से केवल मैसेज ही नहीं बल्कि आप फोटो, टेक्स्ट, वर्ड फाइल, ऐक्सेल फाइल, पीडीएफ फाइल भी भेज सकते हैं। लेकिन जीमेल में 25 एमबी से ज्यादा बड़ी फाइल्स को नहीं भेजा जा सकता। अगर आप इसके बारे में नहीं जानते हैं तो आइए पहले समझते हैं कि ईमेल क्या है।
ईमेल का मतलब होता है "इलेक्ट्रॉनिक मेल" यानी कि इंटरनेट की मदद से भेजा गया पत्र। ऐसे पत्र को हम डिजिटल मैसेज भी कह सकते हैं जिसे एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति से कम्युनिकेट करने के लिए भेजता है। इंटरनेट की मदद से पत्र भेजने की खासियत यह है कि इसमें आपको किसी प्रकार का कोई टिकट नहीं चिपकाना, आपको अपने मित्र का पता, मोबाइल नंबर या नाम भी नहीं लिखना और इसे पोस्ट ऑफिस में भी देकर नहीं आना। आपको केवल अपने दोस्त का ईमेल एड्रेस चाहिए और आप कुछ ही सेकंड में अपना मैसेज अपने दोस्त तक पहुंचा सकते हैं। आप एक ही समय पर बहुत सारे लोगों को भी मेल कर सकते हैं। और अगर आपके मित्र ने आपको ई-मेल भेजा है तो आप कुछ ही सेकंड में उस ईमेल को प्राप्त भी कर सकते हैं। ईमेल की यह सेवा बिल्कुल मुफ्त है बस आपको केवल इंटरनेट कनेक्शन की जरूरत पड़ेगी।

Email address kya hota hai?


दोस्तों ईमेल एड्रेस कोई घर का पता नहीं है, बल्कि यह वह पता है जिस पर आप अपने दोस्त को ईमेल के द्वारा पत्र भेजते हैं। ईमेल एड्रेस को ही ईमेल आईडी भी कहते हैं। हर व्यक्ति का अपना एक यूनीक ईमेल एड्रेस होता है। कभी भी दो व्यक्तियों का ईमेल एड्रेस एक नहीं हो सकता।
ईमेल एड्रेस के मुख्य रूप से तीन हिस्से होते है:--
1.  यूजरनेम
2. @ का चिन्ह
3. डोमेन नेम (gmail.com)
डोमेन नेम में आप gmail की जगह yahoo या hotmail भी यूज कर सकते हैं।
आप अपने यूजरनेम को अपने हिसाब से कुछ भी रख सकते है। ज्यादातर लोग यूजरनेम में अपना नाम और जन्म तारीख रखते है। आप चाहे तो यूजरनेम को अपने हिसाब से अलग भी रख सकते हैं। तो उदाहरण के लिए समझ लीजिए कि किसी व्यक्ति का यूजरनेम है:--
rahuldev1211
तो इस व्यक्ति का ईमेल एड्रेस होगा:--
rahuldev1211@gmail.com

ईमेल एड्रेस की क्या आवश्कता है?

दोस्तों आज लगभग सभी जगह आपसे आपका इमेल एड्रेस पूछा जाता है। चाहे आप किसी नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जाएं या आप किसी बैंक में खाता खुलवाने जाएं या नई सिम कार्ड का कनेक्शन लेने जाएं या चाहे आप ऑनलाइन शॉपिंग करे हर जगह ईमेल एड्रेस की आश्यकता पड़ती है। आपके मोबाइल में भी बिना ईमेल एड्रेस के कुछ एप्लीकेशंस तो खुलते ही नहीं है। इतना ही नहीं अगर आप स्कूल या कॉलेज में एडमिशन लेने भी जाते हैं तो वहां भी आपसे आपका ईमेल एड्रेस पूछा जाता है। अपने दोस्तों या परिवार के लोगों से संपर्क बनाए रखने के लिए भी ईमेल एड्रेस बहुत जरूरी है।

ईमेल का इतिहास


अधिक जानकारी के लिए आपको बता दें कि दुनिया का सबसे पहला ईमेल सन 1971 में Ray Tomlinson के द्वारा भेजा गया था। उन्होंने एक टेस्ट के तौर पर यह ईमेल खुद को भेजा था और उस ईमेल को ARPANET के द्वारा ट्रांसमिट किया गया था। उन्हें ईमेल का जन्मदाता भी कहते हैं।

निष्कर्ष :--

दोस्तों आज इस पोस्ट में हमने जाना कि ईमेल क्या होता है? email kya hota hai? यह इतना जरूरी क्यों है? आदि। हमें पूरी उम्मीद है कि इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपके सभी डाउट क्लियर हो गए होंगे। अगर अब भी कोई चीज आपके समझ में ना आई हो तो आप हमें नीचे दिए कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं। साथ ही आपको आज की यह पोस्ट कैसी लगी वह भी आप हमें नीचे दिए कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं। आपके सवालों और सुझावों का हम इंतजार करते हैं। मिलते हैं दोस्तों इसी तरह की जानकारी से युक्त हमारी अगली बेहतरीन पोस्ट के साथ।
Disqus Comments