Tuesday, August 4, 2020

Prepaid and postpaid meaning in hindi | प्रीपेड और पोस्टपेड में क्या अंतर है?

Prepaid meaning in hindi

नमस्कार दोस्तों!!
एक बार फिर से आपका स्वागत है हमारी वेबसाइट All hindi tip पर। आज की इस पोस्ट में हम बात करेंगे प्रीपेड मीनिंग इन हिंदी विषय पर। आज हम जानेंगे प्रीपेड मीनिंग इन हिंदी, प्रीपेड क्या होता है? Postpaid meaning in hindi? प्रीपेड और पोस्टपेड में क्या अंतर है? आदि।
दोस्तों आज के समय में देखा जाए तो हमारा मोबाइल यानी कि स्मार्टफोन हमारी जिंदगी का एक बेहद अहम हिस्सा बन गया है। अब मोबाइल के बिना तो जैसे जिंदगी अधूरी सी लगती है। अगर कोई भी काम हो या हमें कुछ भी जानना हो, किसी से बात करनी हो या फिर मनोरंजन करना हो तो हमारा हर काम मोबाइल कर देता है। बाजार में आपको अलग अलग तरह के कई मोबाइल मिल जाएंगे जैसे कि एंड्रॉयड स्मार्टफोन, जावा फोन, चाइनीस फोन, आईफोन आदि। इसी तरह आपको बाजार में कई तरह की सिम भी मिल जाएगी जैसे कि बीएसएनएल, एयरटेल, आइडिया, वोडाफोन, डोकोमो, जिओ, एयरसेल आदि। दोस्तों आप सिम के बारे में तो जानते ही होंगे कि बिना सिम के कोई भी फोन किसी काम का नहीं है।
सिम हमारे मोबाइल के लिए बहुत ही ज्यादा आवश्यक है। सिम की वजह से ही हम अपने मोबाइल से कॉल कर सकते हैं, मैसेज कर सकते हैं और इंटरनेट भी यूज कर सकते हैं। अगर हमारे मोबाइल में सिम नहीं है तो हमारे मोबाइल एक खाली डिब्बे के जैसा ही है जिसमें हम केवल गेम ही खेल सकते और उसमे भी सिर्फ वह गेम जो इंटरनेट से ना चलते हो। तो अब आप जान गए होंगे कि सिम कितनी महत्वपूर्ण है। बहुत ही छोटे सी दिखने वाली यह सिम बहुत बड़े-बड़े काम करती है।
लेकिन क्या आप सिम के बारे में जानते हैं कि सिम कितने प्रकार की होती है? अगर आप इसका जवाब जानते हैं तो यह बहुत ही अच्छी बात है लेकिन अगर आप नहीं जानते तो हम आपको बता देते हैं कि सिम दो प्रकार की होती है प्रीपेड और पोस्टपेड। प्रीपेड और पोस्टपेड दोनों सिमे एक ही आकार की होती है लेकिन दोनों के कार्य करने की शैली बिल्कुल अलग है। हम ऐसा भी कह सकते हैं कि यह दोनों एक दूसरे से बिल्कुल उल्टा काम करती है।
तो इस आज इस पोस्ट में हम जानेंगे कि प्रीपेड सिम का मतलब क्या होता है और पोस्टपेड सिम का मतलब क्या होता है, इन दोनों में क्या अंतर होता है तो आइए दोस्तों अब बिना कोई देरी किए जल्दी से शुरू करते हैं।

ये भी पढ़ें :
Resume kaise banaye
Sim ka full form

प्रीपेड का मतलब क्या होता है? Prepaid meaning in hindi


दोस्तों Prepaid दो शब्दों से मिलकर बना है- Pre और paid, जिसमें Pre का मतलब होता है "पहले" और paid का मतलब होता है "भुगतान करना या रिचार्ज करना"।

  • Pre- पहले
  • Paid- भुगतान करना या रिचार्ज करना

यह तो हम सभी जानते हैं कि अधिकतर मोबाइल से कॉल करने के लिए या मैसेज करने के लिए या इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए हमें सबसे पहले मोबाइल में रिचार्ज करवाना पड़ता है तभी हम इन सेवाओं का लाभ ले सकते हैं। अगर आपके मोबाइल में पैसे नहीं है तो आप कॉल, मैसेज नहीं कर सकते और इंटरनेट भी नहीं चला सकते। इसी तरह ही प्रीपेड सिम काम करती है यानी कि अगर आप को कॉल करना है या मैसेज करना है तो पहले आपको अपने मोबाइल में रिचार्ज करवाना होगा उसके बाद आप जितने कॉल करेंगे उसके हिसाब से आपके फोन का बैलेंस कटता जाएगा। और जब यह बैलेंस खत्म होगा उसके बाद ना फोन लगेगा, और ना ही आप मैसेज कर पाएंगे। आपको फिर से रिचार्ज करवाना होगा और उसके बाद ही आप कॉल या मैसेज कर सकते हैं।
तो दोस्तों प्रीपेड का सीधा सा मतलब यही है कि पहले आपको रिचार्ज करवाना है उसके बाद आप कॉल या मैसेज कर सकते हैं। ज्यादातर ऐसा देखा जाता है कि प्रीपेड के प्लांस काफी महंगे होते हैं लेकिन इसमें आपको काफी अच्छे ऑफर्स मिलते हैं जैसे कि अनलिमिटेड कॉलिंग, डेली 2 जीबी डाटा आदि, जिससे कि यह महंगे ऑफर्स भी आपको फायदा पहुंचाते हैं। कभी-कभी आपके फोन में बैलेंस खत्म हो जाने पर प्रीपेड सिम ₹5 से ₹10 के लोन की भी सुविधा देती है जिससे कि अगर आपको कोई इमरजेंसी कॉल करना हो तो आप कर सके। इसके साथ ही यह आपको अलग-अलग प्लांस ऑफर करती हैं जिसमें इंटरनेट और बैलेंस के लिए अलग-अलग प्लांस होते हैं।
अब यह तो हुई प्रीपेड सिम की बात लेकिन क्या आप जानते हैं कि प्रीपेड सिम के अलावा एक पोस्टपेड सिम भी होती है। पोस्टपेड सिम का काम प्रीपेड सिम से बिल्कुल उल्टा होता है। हालांकि भारत में प्रीपेड सिम के ग्राहक ज्यादा है लेकिन कुछ-कुछ लोगों के लिए पोस्टपेड सिम ज्यादा बेहतर रहती है आइए देखते हैं कैसे।

पोस्टपेड का मतलब क्या होता है? Postpaid meaning in hindi

दोस्तों Postpaid भी दो शब्दों से मिलकर बना है- Post और paid। इसमें Post का मतलब होता है "बाद में" और paid का मतलब होता है "भुगतान करना"। यानी कि पोस्टपेड सिम में आपको पहले जितने कॉल करने हैं आप कर सकते हैं, जितने मैसेज करना चाहे कर सकते हैं फिर आपको महीने के अंत में या साल के अंत में बिल का भुगतान करना होता है। इसमें आपको month और year दोनों के हिसाब से प्लान मिलते हैं। दोनों के प्लांस काफी अलग अलग होते हैं। पोस्टपेड प्लांस ज्यादातर काफी महंगे होते हैं लेकिन जो लोग बिजनेस करते हैं और जिन्हें ज्यादा कॉल और मैसेज करने की जरूरत पड़ती हैं उनके लिए यह फायदेमंद रहता है। इसमें आप जितना कॉल करेंगे उसके हिसाब से आपका बिल बनेगा।

प्रीपेड और पोस्टपेड में क्या अंतर है?

दोस्तों अभी हमने आपको प्रीपेड और पोस्टपेड दोनों सिमो के बारे में बताया। इन दोनों में बहुत ज्यादा फर्क होता है क्योंकि एक ओर जहां प्रीपेड सिम में पहले रिचार्ज करवा कर बाद में सुविधाओं का इस्तेमाल करना होता है, वहीं इसका उल्टा पोस्टपेड में हमें पहले सुविधाओं का इस्तेमाल करना होता है और उसके बाद हमें रिचार्ज या बिल का भुगतान करना होता है। यहां नीचे हमने 7 बिंदुओं के आधार पर बताया है कि प्रीपेड और पोस्टपेड में क्या अंतर है व इन दोनों में से कौन ज्यादा बेहतर है।

1. भुगतान/ रिचार्ज

प्रीपेड में हमें पहले रिचार्ज या भुगतान करना होता है उसके बाद हमें कॉल करने और मैसेज करने की सुविधा मिलती है। वहीं इसके विपरीत पोस्टपेड में हमें पहले कॉल और मैसेज करने की सुविधा मिलती है और उसके बाद हम भुगतान करते है।

2. प्लांस

अगर देखा जाए तो प्रीपेड प्लांस आम आदमी की जरूरत को देखते हुए बनाए हुए होते हैं। लेकिन यह प्लांस बिजनेसमैन लोगों के लिए नहीं होते क्योंकि बिजनेसमैन लोगों को प्रीपेड प्लांस में नुकसान ही होता है। जो लोग बिजनेस करते हैं उन्हें बहुत ज्यादा कॉल और मैसेज करने की जरूरत पड़ती है इसलिए वे ज्यादातर पोस्टपेड का ही इस्तेमाल करते हैं ताकि यह उन्हें सस्ता पड़े।

3. वैलिडिटी

दोस्तों प्रीपेड सिम में जो रिचार्ज होते हैं उनकी वैलिडिटी की कोई सीमा नहीं होती है। लेकिन पोस्टपेड सिम में आपको एक महीने या एक साल कि वैलिडिटी होती है। पोस्टपेड में महीने के अंत में या साल के अंत में भुगतान करना होता है।

4. फायदा

दोस्तों प्रीपेड सिम में ज्यादा कॉल करने, मैसेज करने और ज्यादा इंटरनेट का इस्तेमाल करने पर हमें ज्यादा फायदा नहीं मिलता। वहीं इसके विपरीत पोस्टपेड में हम चाहे जितने कॉल कर ले लेकिन तब भी हमें फायदा होता है। हालांकि पोस्टपेड में हम इंटरनेट का लिमिटेड यूज ही कर सकते है।

5. क्रेडिट कार्ड


एक ओर जहां प्रीपेड में हमें रिचार्ज करवाने के लिए क्रेडिट कार्ड की जरूरत नहीं पड़ती। हम अपने फोन में पेटीएम से या मोबाइल शॉप से भी रिचार्ज करवा सकते हैं। लेकिन दूसरी ओर पोस्टपेड में हर महीने के अंत में या साल के अंत में हमें बिल का भुगतान करना होता है जो हम क्रेडिट कार्ड की मदद से ही कर सकते हैं।

6. बिल

दोस्तों प्रीपेड में हम पहले ही रिचार्ज करवा लेते हैं, अपने मोबाइल में पैसे डलवा लेते हैं और उसके बाद हम कॉल, मैसेज और इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं और जितना हम इस्तेमाल करते हैं उसके हिसाब से हमारे मोबाइल से पैसे कटते जाते हैं। इसलिए हमें प्रीपेड में किसी प्रकार की कोई बिल का भुगतान नहीं करना होता। लेकिन पोस्टपेड में हम पहले कॉल, मैसेज और इंटरनेट की सुविधाओं का इस्तेमाल करते हैं और बाद में बिल का भुगतान करते हैं।

7. इमरजेंसी लोन


जैसा कि हमने आपको पहले भी बताया कि प्रीपेड सिम में बैलेंस खत्म हो जाने के बाद भी हमें ₹5 से ₹10 का इमरजेंसी लोन मिलता है जिससे कि अगर हमारे फोन में बैलेंस न हो और हमें कोई इमरजेंसी कॉल करना हो तो हम कर पाए। लेकिन पोस्टपेड में इमरजेंसी लोन जैसी कोई झंझट ही नहीं है। आप जितने चाहे कॉल करें और उसके अनुसार आपको महीने के अंत में या साल के अंत में बिल का भुगतान करना होगा।
तो दोस्तों यह थे प्रीपेड और पोस्टपेड सिम के बीच में अंतर। हम उम्मीद करते हैं कि इन बिंदुओं को पढ़ लेने के बाद अब आप प्रीपेड और पोस्टपेड का मतलब अच्छी तरह से समझ गए होंगे और अब आपको इन दोनों में अंतर भी पता चल गया होगा।

निष्कर्ष:--

आज इस पोस्ट में हमने प्रीपेड और पोस्टपेड के बारे में डिटेल से जानकारी प्राप्त की। आज हमने जाना कि प्रीपेड का मतलब क्या होता है? Prepaid and postpaid meaning in hindi, पोस्टपेड का मतलब क्या होता है? प्रीपेड और पोस्टपेड में क्या अंतर है? आदि। इस पोस्ट को पूरा पढ़ लेने के बाद अब प्रीपेड और पोस्टपेड से जुड़े आपके सभी डाउट क्लियर हो गए होंगे। अगर आज की यह जानकारी आपको मददगार लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी अवश्य शेयर करें ताकि उन्हें भी प्रीपेड और पोस्टपेड के बीच का अंतर पता चल सके। यदि इस पोस्ट से जुड़ा आपका कोई सवाल है तो आप हमें बेहिचक कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछें। साथ ही अगर इस पोस्ट के लिए आपकी कोई राय है तो वह भी आप हमें जरूर बताएं। फिर मिलेंगे दोस्तों इसी तरह की कुछ और जानकारी के साथ हमारी अगली पोस्ट में। तब तक के लिए बाय-बाय, धन्यवाद।

Disqus Comments